• info@thesyaahi.com

मुल्क को कुछ इस तरह बदनाम करते है ।

हमारे मुल्क को कुछ इस तरह बदनाम करते है ,
भुलाकर अपनी संस्कृति जश्न ए जाम करते है ,
जो हमारी दामिनी की आबरू नीलाम करते है ,
कुछ नही वो बस घिनौना काम करते है ,
– – – – – – – – – – – – – – – –
वो अपने मजहब को इस तरह बदनाम करते है ,
ना जाने कितने निर्दोषो का कत्ल – ए – आम करते है ,
छोड़ वन्दे मात्रम गीत वो डिस्को डान्स करते है ,
वीर हमीद , और शहीदों का अपमान करते है ,
– – – – – – – – – – – – – – – –
वो मंदीरो मे बैठ के भजन करते है ,
जो मस्जीदों मे ऐन्ठ के अजान करते है ,
कुछ नही बस दंगा फसाद करते है ,
हमारे मेहनतकशों का नींद हराम करते है ,
– – – – – – – – – – – – – – – –
ये नेताजी इस तरह भ्रष्टचार करते है ,
हम अच्छे दिन का आश्वासन आज करते है ,
अपने लोकतंत्र मे फिर से जान भरते है ,
चलों हम सब साथ मिलकर मतदान करते है ,
– – – – – – – – – – – – – – – –
हमारे मुल्क को कुछ ईस तरह बदनाम करते है ,
भुलाकर संस्कृति अपनी जश्न – ए – जाम करते है ,
– सचिन सार्थक

Tags: , , , , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *