• info@thesyaahi.com

Month: February 2019

क्या दुःख है, समंदर को बता भी नहीं सकता- वसीम बरेलवी

क्या दुःख है, समंदर को बता भी नहीं सकता आँसू की तरह आँख तक आ भी नहीं सकता तू छोड़

भारत माँ के लाल होते हैं- मो. ज़ाहिद हुसैन

तिरंगे की हिफाज़त के लिए, तिरंगे मे ही लिपट कर आ जाते हैं..!! वो शेर कोई और नहीं, भारत माँ

क्यू नींद मेरी मुझसे ख़फ़ा सी हैं?

“क्यू नींद मेरी मुझसे ख़फ़ा सी हैं, क्यू हर पल एक डर सा हैं, क्यू नींद में मीठे सपने नही,

पाताल का मैं तारा हूँ

पाताल का मैं तारा हूँ। हारा हुआ, मारा हुआ हर ज़ख्म से छलनी हुआ खुद के नज़रो से गिरा हुआ

कोई किसी से ख़ुश हो और वो भी बारहा हो– Nida Fazli

कोई किसी से ख़ुश हो और वो भी बारहा हो ये बात तो ग़लत है रिश्ता लिबास बन कर मैला

My Valentine Girl- Sachin Sarthak

कुछ लड़कियां न बड़ी अजीब होती है , उनमें से एक तुम हो ! बड़ी बातुनी टाइप की … और

मुल्क को कुछ इस तरह बदनाम करते है ।

हमारे मुल्क को कुछ इस तरह बदनाम करते है , भुलाकर अपनी संस्कृति जश्न ए जाम करते है , जो

Farewell…….

#Farewell….. सुनने में तो ये ज्यादा महत्वपूर्ण नहीं लगता पर अब शायद याद सी आ रही है | बी.आर.डी. में

क्या मैं लिखू तेरे बारे मे?

एक बात पुछनी है तुमसे क्या मै लिखू तेरे बारे मे? हाँ मै जानता हूँ तुझे लिखते- लिखते मेरी पलके