• info@thesyaahi.com

पुष्प की अभिलाषा- माखन लाल चतुर्वेदी

चाह नहीं, मैं सुरबाला के गहनों में गूँथा जाऊँ चाह नहीं प्रेमी-माला में बिंध प्यारी को ललचाऊँ चाह नहीं सम्राटों

याद हैं बस तेरा होने तक

तुमसे मिला था जब सफर मे, याद हैं बस तेरा होने तक फिर से हम मिले या ना मिले, याद

कभी तो अपने ज़ज़्बात को हमारा कर दो।

.कभी तो अपने ज़ज़्बात को हमारा कर दो होंठो से कुछ न कहो तुम आँखो से ज़रा इशारा कर दो

I don’t love you anymore

I don’t love you anymore   हाँ तुमसे पूरे दिन पूरी रात बात करना अगर मोहब्बत हैं। हाँ तुम्हारे सामने

तुम और फिज़िक्स

मेरा पहला प्यार तुम और physics हाँ तुम बिलकुल physics जैसी हो, बहुत कम तुम्हे समझ पाते हैं, बहुत कम

इश्क है तो इश्क का इजहार होना चाहिये- मुनव्वर राना

इश्क है तो इश्क का इजहार होना चाहिये आपको चेहरे से भी बीमार होना चाहिये आप दरिया हैं तो फिर

Happy Republic Day

Syaahi is wishing you all a very Happy Republic Day.

….ये मेरा काम नहीं

 क्या अच्छा , बुरा क्या है ये तुम सोचो , ये मेरा काम नहीं मुझे तो आकाश में पंछी बन

The Moon

I appear at night from somewhere, And disappears during the daytime to nowhere People call me as the happiness of

My Dream Girl

YESTERDAY , I met a girl, She was just like a pearl. She had a charming face, Which increased my